हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए, 100% कारगर है ये दवा

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए – हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक दवा है जिसका इस्तेमाल महिलाओं द्वारा किया जाता है। यह दवा महिलाओं में पीरियड की अनियमितता, गर्भावस्था के बाद कमजोरी, थकान और अन्य स्त्री रोग विकारों में बहुत फायदेमंद होती हैं।

आज के समय में बहुत सारी महिलाके पीरियड्स समय पर नहीं आते हैं, यानी उनका पीरियड चक्र गड़बड़ा जाता है साथ ही पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग ज्यादा होती है, ऐसे में उन्हें हेमपुष्पा सिरप लेने की सलाह दी जाती है।

आज के इस पोस्ट में हम आपको हेमपुष्पा सिरप के फायदे, हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए, हेमपुष्पा सिरप कब पीना चाहिए, हेमपुष्पा सिरप के नुकसान के बारे में विस्तार से बताएँगे। तो इस महत्वपूर्ण जानकारी को पाने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए
हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए

हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए – Hempushpa Kitni Bottle Pini Chahiye

हेमपुष्पा सिरप को 1 से 2 महीने तक लेने की सलाह दी जाती है। अगर आप हेमपुष्पा की 170 मिलीग्राम वाली एक बोतल खरीद लेते हैं तो यह पूरे महीने बड़े आराम से चल जाती है।

अगर आप नियमित रूप से हेमपुष्पा सिरप पीते हैं तो एक हफ्ते से 15 दिनों में इसका असर दिखना शुरू हो जाएगा। अगर आपको सिरप पीने के के बाद फायदा हो रहा हैं तो आप हेमपुष्पा सिरप की एक से अधिक बोतल पी सकते हैं। लेकिन दवा लेने से पहले आपको डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

हेमपुष्पा सिरप की कीमत – Hempushpa Syrup Price

170 मिलीग्राम हेमपुष्पा सिरप की कीमत लगभग 250 रूपये होती है। हेमपुष्पा सिरप को आप अपने नजदीकी किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

यहाँ पर हम Amozon ऑनलाइन शौपिंग वेबसाइट का लिंक शेयर कर रहे हैं, जहाँ से आप घर बैठे ऑनलाइन आर्डर कर सकते हैं।

हेमपुष्पा सिरप

Hempushpa Syrup For Women’s Health/ हेमपुष्पा सिरप

  • पीरियड्स की अनियमियता दूर करने में
  • हार्मोनल संतुलन ठीक करने में
  • शारीरिक कमजोरी दूर करने में
  • वजन बढ़ाने में मददगार

हेमपुष्पा सिरप कब पीना चाहिए – Hempushpa Syrup Kab Pina Chahiye

हेमपुष्पा सिरप का इस्तेमाल उन महिलाओं को करना चाहिए जो मासिक धर्म की अनियमियता से परेशान रहती हैं। यानी कि जिन महिलाओं के पीरियड्स लेट आते हैं या जल्दी आते हैं और पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लड आता है, थकान और कमजोरी महसूस होती है, ऐसी महिलाओं को हेमपुष्पा लेने की सलाह दी जाती है।

कई बार महिलाओं को पेशाब करते समय जलन व दर्द का अनुभव होता है ऐसे में हेमपुष्पा सिरप लेना बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा बहुत जादा दुबली-पतली महिलाओं को अपना वजन बढ़ाने के लिए भी हेमपुष्पा बहुत फायदेमंद होती है।

अगर आप हेमपुष्पा सिरप पीना चाहती हैं तो एक चम्मच सुबह और एक चम्मच शाम को खाना-खाने के बाद पी सकती हैं।

हेमपुष्पा सिरप कैसे पीना चाहिए – Hempushpa Syrup Kaise Pina Chahiye

अगर आप किसी भी सिरप या टेबलेट के सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह लेकर ही करें। डॉक्टर आपके स्वास्थ्य और स्थिति की जांच करके आपको दवा लेने का सही खुराक और दिशानिर्देश देंगा।

हेमपुष्पा सिरप हमेशा खाना-खाने के बाद ही पीना चाहिए। इसकी एक चम्मच सुबह और एक चम्मच शाम को गुनगुने पानी के साथ पी सकते हैं।

हेमपुष्पा सिरप के फायदे – Hempushpa Syrup Ke Fayde

हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक दवा है जो सिर्फ और सिर्फ महिलाओं के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा है। इस दवा को लड़कियां और महिलाएं दोनों ले सकती है। चाहे लडकी शादी-शुदा हो या कुंवारी हो, यह दवा दोनों में समान रूप से काम करती है।

हेमपुष्पा सिरप महिलाओं में होने वाले अलग-अलग प्रकार के स्त्री रोग को ठीक करने में मदद करती है। यहाँ पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि हेमपुष्पा सिरप के फायदे कौन-कौन से होते हैं।

(1) पीरियड्स की अनियमियता

जिन महिलाओं के पीरियड्स समय पर नहीं आते हैं या पीरियड्स के दौरान बहुत ज्यादा रक्तस्राव होता है, ऐसी महिलाओं को हेमपुष्पा सिरप लेने की सलाह दी जाती है।

हेमपुष्पा सिरप लेने से महिलाओं के पीरियड्स समय पर आने लगते हैं साथ ही पीरियड्स के दौरान होने वाला दर्द कम हो जाता है।

(2) शारीरिक कमजोरी को दूर करने में

बच्चे डिलीवरी के बाद महिलाओं के शरीर में काफी कमजोरी आ जाती है, इस कमजोरी और थकान को दूर करने के लिए भी हेमपुष्पा लेना बहुत फायदेमंद होता हैं।

अगर कोई महिला को मानसिक या शारीरिक कमजोरी का अनुभव करती है तो ऐसी स्थिति में भी हेमपुष्पा सिरप पीना फायदेमंद होता हैं।

(3) हार्मोन को संतुलित करने में

अगर किसी महिला के शरीर में हार्मोन का संतुलन बिगड़ गया है तो इसकी वजह से कई तरह की बीमारियाँ घेरने लगती है जैसे कि सूजन , थकान , कमजोरी , बाल झड़ने की समस्या, घबराहट , बांझपन आदि।

असंतुलित हार्मोन को संतुलित करने के लिए हेमपुष्पा सिरप लेना बहुत फायदेमंद माना जाता है।

(4) वजन बढ़ाने में

जिस प्रकार कई महिलायें अपने बढ़े हुए वजन को कम करना चाहते हैं ठीक उसी प्रकार से कई महिला ऐसी भी जो अपने दुबले-पतले शरीर का वजन बढ़ाना चाहती है।

अगर कोई महिला अपना वजन बढ़ाना चाहती हैं तो हेमपुष्पा पीने से उनका वजन बढ़ने लगेगा। हेमपुष्पा में मौजूद आयुर्वेदिक तत्व आपकी पाचन तंत्र को मजबूत करके भूख की कमी और कमजोरी दूर करते है जिससे आपका वजन धीरे-धीर बढ़ें लगता हैं।

(5) त्वचा को खूबसूरत बनाने में

सुन्दर और बेदाग़ त्वचा हर किसी को अच्छी लगती है लेकिन कई बार एक छोटा सा पिंपल्स आपके खूबसूरत चेहरे को बिगाड़कर रख देता है। अगर आपके चेहरे पर भी पिंपल्स, मुहासें या अन्य त्वचा संबंधी विकार हैं तो इन्हें दूर करने के लिए हेमपुष्पा सिरप पी सकती हैं।

हेमपुष्पा सिरप पीने से महिला का खून साफ़ होता है जिससे पिंपल्स और मुहासें की समस्या दूर होने लगती है। साथ ही त्वचा की सुन्दर दिखने लगती है।

हेमपुष्पा सिरप के नुकसान – Hempushpa Syrup Ke Nuksan

हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक दवा है जिसका सेवन करने किसी भी प्रकार के साइड-इफ़ेक्ट या नुकसान देखने को नहीं मिलता है। लेकिन कई बार इसकी गलत तरीके या ज्यादा खुराक लेने से कुछ सामान्य नुकसान देखने को मिल सकते हैं।

यहाँ पर हम आपको बताने जा रहें हैं कि हेमपुष्पा सिरप के नुकसान क्या-क्या होते हैं –

  • हेमपुष्पा सिरप का अधिक मात्रा में सेवन करने से पेट में जलन की समस्या हो सकती है।
  • हेमपुष्पा सिरप का सेवन पुरुषों को नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपकी उम्र 13 वर्ष से कम है तो आपको हेमपुष्पा सिरप नहीं पीनी चाहिए।
  • कुछ लोगो में इस दवा का सेवन करने से एसिडिटी की समस्या हो जाती हैं।
  • हेमपुष्पा सिरप की ओवर डोज लेने से जीमिचलाने की समस्या हो सकती है।
  • स्तन पान और गर्भवती महिलाओं को हेमपुष्पा सिरप का सेवन डॉक्टर की परामर्श लेकर ही करनी चाहिए।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने आपको बताया कि हेमपुष्पा कितनी बोतल पीनी चाहिए। हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक दवा है जिसमे अश्वगंधा, शतावरी, संखपुष्पि समेत कई प्रकार की औशाधियाँ शामिल होती हैं। हेमपुष्पा का इस्तेमाल करने से महिलाओं को बहुत लाभ मिलता है। यह महिलाओं में शारीरिक कमजोरी, मासिक धर्म की अनियमितता, वजन न बढ़ने की समस्या, गर्भावस्था के बाद कमजोरी, थकान होना, मुहासे आदि कई समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।

हेमपुष्पा महिलाओं द्वारा सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली सिरप है। हेमपुष्पा सिरप को नियमित रूप से 1 महीने तक पीने की सलाह दी जाती है। हेमपुष्पा सिरप को कभी भी सेवन खाली पेट ना करें, हमेशा खाना-खाने के बाद ही पीना चाहिए।

डिस्क्लेमर – इस पोस्ट में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. इसलिए यहाँ पर बताई गई किसी भी दवा या मान्यता को अमल करने से पहले डॉक्टर या सम्बंधित विशेषज्ञ की परामर्श जरूर लें।

इन्हें भी पढ़ें–

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *